Live24.co
Best News Portel In India

लोक अदालत में 208 वादों का निस्तारण

- Advertisement -

कैराना। जनपद न्यायालय में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस मौके पर विभिन्न न्यायालयों में विचाराधीन परिवार, दीवानी, दुर्घटना आदि से संबंधित 208 वादों का निस्तारण किया गया। साथ ही, 72450 रूपये का जुर्माना भी वसूला गया।
शनिवार को कैराना स्थित जनपद एवं सत्र न्यायालय में जनपद न्यायाधीश अनूम कुमार गोयल की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया, जिसमें न्यायिक अधिकारियों ने विभिन्न न्यायालयों में विचाराधीन मामलों पर सुनवाई की। लोक अदालत के नोडल अधिकारी एवं सिविल जज सीनियर डिवीजन रजनीश मोहन वर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में लंबित पड़े कुल 208 वादों का निस्तारण किया गया, जिनमें मोटर दुर्घटना से संबंधित सात वादों में पीड़ित व्यक्तियों को 24 लाख 85 हजार रूपये प्रतिकर दिलाए गए। वहीं, परिवार न्यायालय में 32 वादों का निस्तारण कियाग या, जिसमें से तीन मामलों में दंपतियों ने सुलह कर नए जीवन की शुरूआत की। इनके अलावा विभिन्न दांडिक न्यायालयों में 136 मामले सुलह समझौतों के आधार पर निस्तारित हुए, जिनमें 72 हजार 450 रूपये अर्थदंड की वसूली की गई। दीवानी मामलों में 33 विवाद सुलह समझौते के आधार पर निस्तारित किए गए। उधर, राष्ट्रीय लोक अदालत के दौरान बैंकों के कर्ज लिए 166 व्यक्तियों के मामले मुकदमेबाजी से पूर्व ही सुलह समझौते के आधार पर समाप्त हो गए, जिनमें लगभग दो करोड 74 लाख 85 हजार रूपये धनराशि का सेटलमेंट बैंकों को प्राप्त हुअ। इसमें पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, बैंक आफ बडौदा, यूनियन बैंक आफ इंडिया सहित करीब दस बैंकों ने भाग लिया। लोक अदालत के दौरान प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय ज्ञानेंद्र यादव, अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश रजत वर्मा, अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश सुबोध सिंह, सिविल जज सीनियर डिवीजन सिद्धार्थ कुमार वाघव, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राजमंगल सिंह यादव, सिविल जज सीनियर डिवीजन शामली रजनीश मोहन वर्मा, अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट रूचि तिवारी व सिविल जज जूनियर डिवीजन शामली मुक्ता त्यागी मौजूद रहें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More