टाइम मैगज़ीन ने अपनी वेबसाइट पर “मोदी हेड यूनाइटेड इंडिया लाइक नो प्राइम मिनिस्टर इन डेकेड्स” आर्टिकल लिखा

टाइम मैगज़ीन ने अपनी वेबसाइट पर “मोदी हेड यूनाइटेड इंडिया लाइक नो प्राइम मिनिस्टर इन डेकेड्स” आर्टिकल लिखा

लोकसभा चुनाव के दौरान अमेरिका की मशहूर मैगजीन “टाइम” ने पहले तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को “डिवाइडर इन चीफ” यानी “तोड़ने वाला मुखिया” बताया था, लेकिन अब वहीं मैगजीन (Times Article on Modi) चुनाव परिणाम आने के बाद मोदी की तारीफ कर रही है| नतीजे आने के बाद टाइम ने अपनी वेबसाइट पर PM मोदी पर एक आर्टिकल लिखा है| जिसका शीर्षक “मोदी हेड यूनाइटेड इंडिया लाइक नो प्राइम मिनिस्टर इन डेकेड्स” यानी “भारत को एक जुट करने वाले मोदी, जो आज तक कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाया”|

मनोज लाडवा ने लिखा आर्टिकल:

बता दे इस आर्टिकल को मनोज लाडवा ने लिखा है और टाइम ने अपनी साइट पर इसे जगह दी है| मनोज लाडवा प्रधानमंत्री की चुनाव प्रचार टीम का हिसा भी रह चुके है| बता दे कि, चुनाव के बीच टाइम ने अपनी राय राखी थी कि, भारत के पास मोदी के अलावा कोई बेहतर विक्लप नहीं है| देश की अल्पसंख्यक आबादी उन्हें एक ऐसे शख्स के रूप में देखती है जो समाज का विभाजन करने का काम कर रहे है|

1947 के इतिहास का जिक्र करते हुए टाइम मैगज़ीन के आर्टिकल में लिखा, जब भारत को आजादी मिली थी और जिस तरह तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहलाल नेहरू ने धर्मनिरपेक्षता को सरकार का मूल माना| टाइम के मुताबिक धर्म के नाम पर राजनीती नहीं होनी चाहिए| 2014 का साल भारत देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित हुआ|

PM मोदी की खुशनसीबी

आर्टिकल में लिखा, प्रधानमंत्री की नीतियों की आलोचना के बाबजूद अपने पिछले साल के नतीजों की तुलना में इस साल भारतीय वोटर्स को उन्हें एक जुट किया, जो पांच दशकों में आज तक नहीं हुआ था| PM मोदी की खुशनसीबी है कि, उनके सामने कमजोर विपक्ष है| कांग्रेस पार्टी और अन्य विपक्ष का केवल एक ही एजेंडा था मोदी को हराना|

वहीं 10 मई को प्रकाशित हुए आर्टिकल में टाइम मैगज़ीन में ‘आतिश तासी’ ने लिंचिंग और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़े कई मामलों पर PM मोदी की आलोचना की थी| बीच चुनाव में टाइम की इस कवर स्टोरी को विपक्ष ने बहुत सहारा था|