गांधी रिसर्च फाउण्डेशन द्वारा आयोजित न्यू जर्सी की ‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ प्रदर्शनी

गांधी रिसर्च फाउण्डेशन द्वारा आयोजित न्यू जर्सी की ‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ प्रदर्शनी

जलगांव। अमेरिका के न्यू जर्सी में आयोजित किये गये ‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ (Gandhi Going Global Exhibition) इस विश्वस्तरीय प्रदर्शनी में गांधी रिसर्च फाउण्डेशन भी सहभागी होगा। यह प्रदर्शनी 24 से 26 मई के दरमियान न्यू जर्सी में आयोजित की गई है। महात्मा गांधीजी के जीवनकार्य का प्रचार एवं प्रसार करने वाली विश्वभर की संस्थाएँ इस प्रदर्शनी में सहभाग दर्ज करेगी। तीन दिनों तक चलने वाली इस प्रदर्शनी में विश्वभर के गांधीवादी, अभ्यासक बड़ी संख्या में भेंट देगे। इस प्रदर्शनी में गांधीजी और कस्तुरबा की 150 वी जयन्ति वर्ष के उपलक्ष्य में गांधी रिसर्च फाउण्डेशन की ओर से डाक विभाग के विशेष लिफाफे का अनावरण भी किया जाएगा। इस लिफाफे पर न्यू जर्सी के डाक विभाग की मुहर होगी। बा-बापू 150 जयन्ति वर्ष के उपलक्ष्य में विश्वस्तर पर मनायी जाये, इस उद्देश्य से ‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ प्रदर्शनी का आयोजन किया गया है।

कैसी होगी ‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ प्रदर्शनी

न्यू जर्सीस्थित कन्व्हेक्शन ॲन्ड एक्स्पोटीशन सेंटर में लगभग एख लाख स्केअर फीट के भव्य मैदान में गांधी गोईंग ग्लोबल प्रदर्शनी आयोजित की है। प्रदर्शनी में महात्मा गांधीजी के जीवनकार्य की जानकारी देने वाले म्युझियम होंगे तथा गांधीजी के जीवन की कुछ महत्त्वपूर्ण घटना-प्रसंगों को रेखांकित करने वाली फोटोगैलरी होगी। गांधीजीपर तैयार की गई विविध फिल्मे दिखाई जाएगी। गांधीजी के चुनिंदा भाषण भी यहां सुनेने और देखने को मिलेगे।

गांधी रिसर्च फाउण्डेशन का भव्य दालन

‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ इस विश्वस्तरीय प्रदर्शनी में गांधी रिसर्च फाउण्डेशन के लगभग 25 हजार स्के. फीट इतने बड़े आकार में यह प्रदर्शनी होगी। यह प्रदर्शनी महात्मा गांधीजी के जीवन के अनेक घटना प्रसंगो पर प्रकाश डालेगी। 14 विभागों में तैयार की गई यह प्रदर्शनी महात्मा गांधीजी के विविध तत्त्वों का प्रतिनिधत्व करेगी। विश्वभर में नावलैकिक प्राप्त नेताओं की गांधीजी के बारे में क्या राय है इसके संदर्भ में जानकारी वर्ल्ड ग्लोबर लीडर इस विभाग में दिखाई देगी।

युवा और बच्चों को आकर्षिक करने के लिए

महात्मा गांधीजी का चरित्र कैसा निर्माण हुआ। मोहनदास के जीवन में पारदर्शकता कैसे आयी इसके बारे में जानकारी अलग पद्धति से रखी जाएगी। इस विभाग में छोटे-छोटे तंबू होगे। गांधीजी की जानकारी चित्र और कॉमिक्स के रूप में ॲनिमेशन के स्वरूप में प्रस्तुत की जाएगी। अनेक प्रकार के गेम्स इस जगह पर होंगे। यह गेम्स खेलते हुए गांधी तत्वों की पहचना होगी और युवा तथा छोटे बच्चों के विचारों को बढावा मिलेगा।

Gandhi Going Global Exhibitionगांधी विचारों से मिलेगा आधुनिक समस्याओं का सुझाव

आज के गतिमान जीवन की समस्याओं को गांधीजीके तत्वज्ञान से ही उत्तर मिलता है इस बात का प्रत्यय प्रदर्शनी में आने वाले ले सकेंगे। इस विभाग में विविध टेबल की रचना कर विविध समस्या और उस पर गांधीजी के तत्व के अनुसार उत्तर लिखे हुए कार्ड होंगे। प्रेक्षक टेबल पर बैठकर अपने समस्या के अनुसार कार्ड का चयन करेंगे और गांधीजी के तत्व के अनुसार उत्तर पाएँगे।

नोबेल विजेताओं का मनोनय

गांधीजी के विचारों की प्रेरणा लेकर विश्व के 50 देशों ने स्वतंत्रता प्राप्त की है। गांधी विचारों का स्वीकर कर उसका प्रचार एवं प्रसार करने वाले अनेकों को शांतता नोबल पुरस्कार देकर गौरवान्वित किया गया है। शांतता नोबल पुरस्कार विजेता विश्वभर के नेताओं की नजर से गांधीजी उन्हें कैसे लगे इसके बारे में 20 से 26 लोगों का मनोनय भी रखा गया है।

‘गांधी रिसर्च फाउण्डेशन’ के कार्य की जानकारी

गांधी रिसर्च फाउण्डेशन ने महात्मा गांधीजी के विचारों की प्रेरणा लेकर ग्राम विकास का कार्य हाथों में लिया है। इस कार्य के संदर्भ की जानकारी इस विभाग में प्रस्तुत की गई है। इसके अलावा गांधी विचार परीक्षा, गांधी तीर्थ में जारी ऑडिओ गाईडेड म्युझियम की जानकारी भी इसमें दी जाएगी। उसी तरह आने वाले व्यक्ती की समस्याओं का समाधान करने के लिए इस जगह पर उपस्थित गांधी विचारों के अभ्यासक मार्गदर्शन करेंगे। गांधी रिसर्च फाउण्डेशन की ओर से गांधीजी और अमरिका के संबंधों पर आधारित विशेष डाक लिफाफे का विमोचन किया जाएगा।

अमेरिका में वर्षभर रहेगी प्रदर्शनी

‘गांधी गोईंग ग्लोबल’ इस प्रदर्शनी का समापन होने के पश्चात यहां लगाये गये गांधी रिसर्च फाउण्डेशन की प्रदर्शनी अमेरिका के गांधीयन सोसायटी को भेंट स्वरूप में दी जाएंगी। उसके पश्चात यह प्रदर्शनी अमेरिका के विविध प्रांतों में अगले वर्षभर लगायी जाएगी। तथा गांधी रिसर्च फाउण्डेशन और मेक्सिको सॅटीस युनिव्हर्सीटी के बीच करार किया गया है और उसके अनुसार गांधी रिसर्च फाउण्डेशन की ओर से डॉ. जॉन चेल्लादुराई और अश्विन झाला इस कार्यशाला में (वर्कशॉप) लेंगे। इस अतिभव्य एवं विश्वस्तरीय प्रदर्शनी को साकार करने के लिए गांधी रिसर्च फाउण्डेशन के समन्वयक उदय महाजन का विशेष मार्गदर्शन रहा है।

मुख्य विशेषताएँ
  • एक लाख स्के. फीट जगह पर गांधी गोईंग ग्लोबल प्रदर्शनी का आयोजन
  • इस गांधी रिसर्च फाउण्डेशन की प्रदर्शनी होगी 25 हजार स्के. फीट जगह में
  • गांधीजी के बारे में विश्व के नेताओं का मनोनय जानने को मिलेगा
  • गांधीजी का जीवनकार्य ॲनिमेशन स्वरूप में प्रदर्शित किया जाएगा
  • प्रदर्शनस्थल पर जेल को साकार किया जाएगा, दर्शक ले सकेंगे अनुभव
  • प्रदर्शनी में गांधीवादी बतलायेंगे आधुनिक समस्याओं पर उपाय
  • गांधीजीं पर आधारित विशेष डाक लिफाफे का होगा विमोचन
कोट

विश्व स्तरीय ‘गांधी तीर्थ’ को साकार करने में भवरलालजी जैन अर्थात हम सभी के बड़े भाऊ की पहल थी। तथा गांधी रिसर्च फाउण्डेशन के पूर्व अध्यक्ष तथा पूर्व न्यायमूर्ति चंद्रशेखर धर्माधिकारी का भी मार्गदर्शन लाभान्वित हुआ था। जलगांव जैसे शहर में साकार हुए गांधी तीर्थ का सहभाग सीधे विश्वस्तरीय प्रदर्शनी में हो यह जलगांव वासियों के लिए गौरव की बात है। गांधीजी के तत्वज्ञान का प्रसार और प्रचार करने के लिए फाउण्डेशन ने ग्राम विकास का कार्य़ का जिम्मा लिया है, इस संदर्भ की जानकारी भी इस प्रदर्शनीद्वारा प्रस्तुत की जाएगी। विश्वभर के गांधीवादी इस प्रदर्शनी में भेंट देंगे और महात्मा गांधीजी के तत्वज्ञान से असंख्य लोग जुड जाएंगे।

– अशोक जैन, संचालक, गांधी रिसर्च फाउण्डेशन, जलगांव